सुधीर-चौधरी-पत्रकार-ने-दिया-इस्तीफ़ा-ये-था-कारण

एक जुलाई 2022 को ब्रॉडकास्ट न्यूज नेटवर्क Zee Media Corporation Ltd (ZMCL) ने कहा कि सुधीर चौधरी ने 1 जुलाई, 2022 के आख़िरी घंटे से कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) के पद से इस्तीफा दे दिया है ।

सुधीर-चौधरी-पत्रकार-ने-दिया-इस्तीफ़ा-ये-था-कारण
फ़ोटो क्रेडिट:Zee Media Corporation यूटूब लिंक

कंपनी ने कहा कि इस्तीफे के कारण, कंपनी ने मुख्य व्यवसाय अधिकारी (Business Officer) अभय ओझा को सुधीर चौधरी के स्थान पर प्रमुख प्रबंधक (managerial personnel) के रूप में नामित किया है। सुधीर चौधरी ने  1 जुलाई, 2022 के आख़िरी घंटे से कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) के पद से इस्तीफा दे दिया है ।

एस्सेल समूह के चेयरमैन डॉ. सुभाष चंद्रा ने सुधीर चौधरी का इस्तीफा स्वीकृत कर लिया है और आठ जुलाई को दिल्ली के कॉन्स्टीट्यूशन क्लब में फेयरवेल डिनर रखा है।. सुधीर चौधरी ‘जी समूह’ (Zee Group) के हिंदी न्यूज चैनल ‘जी न्यूज’ (Zee News) के एडिटर-इन-चीफ और सीईओ (CEO) के पद पर कार्यरत थे । ‘एस्सेल’ (Essel) ग्रुप के चेयरमैन व ‘जी मीडिया कॉर्पोरेशन लिमिटेड’ (ZMCL) के मेंटर डॉ. सुभाष चंद्रा ने उनका इस्तीफा स्वीकृत कर लिया है। डॉ. सुभाष चंद्रा ने अपने भूतपूर्व CEO सुधीर चौधरी के लिए आठ जुलाई को कॉन्स्टीट्यूशन क्लब, दिल्ली में फेयरवेल डिनर पार्टी का आयोजन भी किया है।

मिली जानकारी के मुताबिक, सुधीर चौधरी का इस्तीफा स्वीकार करते हुए डॉ. चंद्रा ने एक इंटरनल मेल ड्राफ़्ट किया है जिसमें डॉ. चंद्रा का कहना है, 'पिछले दो दिनों में सुधीर चौधरी के साथ कई मीटिंग हुईं और मैंने उनके यहां रुकने पर भी जोर दिया। लेकिन सुधीर चौधरी अपनी फैन फॉलोइंग के लिए एक नया वेंचर लॉन्च करने की योजना पर काम कर रहे हैं। लिहाजा, मैं उनके सफलता की राह में कोई रुकावट नहीं बनना चाहता, इसलिए मैंने उनके इस्तीफे को स्वीकृति दी है। मेरी शुभकामनाएं हैं कि वह और ऊंचाइयों पर पहुंचें।'

वहीं, सुधीर चौधरी ने अपने इस्तीफे में अंग्रेजी की एक कहावत (Great is the art of beginning, but greater is the art of ending) का जिक्र करते हुए डॉ. सुभाष चंद्रा से उनका आशीर्वाद मांगा । उन्होंने कहा कि अंतर्मन की आवाज को सुनते हुए भारी मन से मैंने यह फैसला लिया है। मुझे उम्मीद है कि मैं जो नया वेंचर शुरू करने जा रहा हूं, उसे लेकर आपको मुझ पर गर्व होगा। ‘जी' में लगभग 15 साल के कार्यकाल के दौरान मुझे यहां काफी कुछ सीखने को मिला है।

ज्ञात हो कि कंपनी ने 31 मार्च, 2022 को समाप्त चौथी तिमाही के लिए 51.45 करोड़ रुपये का समेकित शुद्ध घाटा दर्ज किया। हालांकि, समीक्षाधीन तिमाही के दौरान परिचालन से राजस्व 37.78 प्रतिशत बढ़कर 247.73 करोड़ रुपये हो गया, जबकि एक साल पहले की अवधि में यह 182.93 करोड़ रुपये था।